ओशो रजनीश, 20 वीं सदी के सबसे महान विचारक और आध्यात्मिक गुरु के तौर पर जाने जाते हैं| धर्म और पाखंड पर कड़े व्यंग्य करने की वजह से अनेकों बार उनका विरोध भी हुआ परन्तु उनके दार्शनिक विचार आज भी प्रेरणा स्रोत हैं| ओशो का कहना था कि आप बिना जाने किसी भी धर्म या पाखंड पर विश्वास ना करें, ईश्वर ने आपको सद्बुद्धि दी है, उसका इस्तेमाल करें और सत्य की ओर चलें|

ओशो के सबसे सफलतम मार्गदर्शक सुविचार (Osho Quotes in Hindi) आज हम इस लेख में पढ़ेंगे। ओशो के लिए ये अनमोल विचार आध्यत्म और सत्य की ओर आपको आकर्षित करते प्रतीत होंगे – आशा है कि आपको यह बेहद पसंद आयेंगे –

“Rajneesh” Osho Quotes in Hindi

Great Osho Quotes In Hindi

जो भी किया जा सकता है, उसी वक़्त किया जा सकता है, जिसे आप कल पर छोड़ रहे हैं, जान लें, आप करना नहीं चाहते हैं – ओशो

 

 

Guru Osho Quotes In Hindi

आपको किसी से किसी भी तरह की प्रतिस्पर्धा करने की जरुरत नहीं है, आप जैसे भी हैं एकदम सही हैं – ओशो

Osho Quotes In Hindi For Life

मोह के बिना दुःख होता ही नहीं, जब भी दुःख होता है, मोह से होता है – ओशो

Mahan Osho Quotes In Hindi

आप वही बन जाते हैं जो आप अपने बारे में सोचते हैं – ओशो

Osho Quotes In Hindi

भीड़ में खोने से अच्छा है कि एकांत में खो जायें – ओशो

Osho Suvichar Quotes In Hindi

जो तुम्हारे पास है, वह बेकार है
जो दूसरों के पास है, वो स्वर्ग है
जब तक मैं उसे पा न लूँ तब तक बेचैनी रहती है
और पाते ही वो मेरे लिए बेकार हो जाती है
अब फिर दूसरे पर नजर जाने लगी… – ओशो

कल तो कभी आता ही नहीं ,जब भी आता है, आज ही आता है, कल भी आज ही आएगा – ओशो

‘मैं’ से भागने की कोशिश मत करना, उस से भागना हो ही नहीं सकता, क्योंकि भागने में भी वह साथ ही है, उस से भागना नहीं है बल्कि समग्र शक्ति से उसमें प्रवेश करना है – ओशो

अगर आप सच देखना चाहते हैं तो ना ही पक्ष में रहें और ना ही विपक्ष में – ओशो

उस रास्ते पर मत चलो जिसपर डर तुम्हें ले जाये ,
बल्कि उस रास्ते पर चलो जिसपर प्रेम ले जाये,
उस रास्ते पर चलो जिसपर ख़ुशी तुम्हें ले जाये – ओशो

सबसे बड़ी मुक्ति है स्वयं को मुक्त करना क्योंकि साधारणतया हम भूले ही रहते हैं कि स्वयं पर हम स्वंय ही सबसे बड़ा बोझ हैं – ओशो

मूर्ख दूसरों पर हँसते हैं, बुद्धिमत्ता खुद पर – ओशो

यहाँ कोई भी आपका सपना पूरा करने के लिए नहीं है, हर कोई अपनी तकदीर और अपनी हक़ीकत बनाने में लगा है – ओशो

किसी से किसी भी तरह की प्रतिस्पर्धा की आवश्यकता नहीं है, आप स्वयं में जैसे हैं एकदम सही हैं, खुद को स्वीकारिये – ओशो

आप जितने लोगों को चाहें उतने लोगों को प्रेम कर सकते हैं- इसका ये मतलब नहीं है कि आप एक दिन दिवालिया हो जायेंगे, और कहेंगे, “अब मेरे पास प्रेम नहीं है”. जहाँ तक प्रेम का सवाल है आप दिवालिया नहीं हो सकते – ओशो

मित्रता शुद्ध प्रेम है ये प्रेम का सर्वोच्च रूप है जहाँ कुछ भी नहीं माँगा जाता, कोई शर्त नहीं होती, जहां बस देने में आनंद आता है – ओशो

कल कभी भी नहीं होता है, जब भी हाथ में आता है, तो आता है आज और उसको भी कल पर छोड़ देते हैं, हम जीते ही नहीं, स्थगित किये चले जाते हैं| कल जी लेंगे ,परसों जी लेंगे – ओशो

जिस दिन आप ने सोच लिया कि आपने ज्ञान पा लिया है, उस दिन आपकी मृत्यु हो जाती है क्योंकि अब ना कोई आश्चर्य होगा, ना कोई आनंद और ना कोई अचरज, अब आप एक मृत जीवन जियेंगे – ओशो

अधिक से अधिक भोले, कम ज्ञानी और बच्चों की तरह बनिए, जीवन को मजे के रूप में लीजिये क्योंकि वास्तविकता में यही जीवन है – ओशो

‘जीवन ठहराव और गति के बीच का एक संतुलन है – ओशो

सवाल ये नहीं कि कितना सीखा जा सकता है बल्कि सवाल ये है कि कितना भूला जा सकता है – ओशो

ध्यान चीज़ों को याद रखने की नहीं बल्कि उनको भुलाने की प्रक्रिया है – ओशो

आप जो सोचते हैं आप वही बन जाते हैं – ओशो

मत सोचो की तुम्हारा सच्चा मित्र कौन है बल्कि ये सोचो कि तुम किसके सच्चे मित्र हो – ओशो