Categories
By using our website, you agree to the use of our cookies.

Month: January 2018

Meditation Is Witnessing Osho Meditation &Amp; Relationship
Lifestyle

आपने भी कभी तो जीवन में बनाये होंगे नियम ? OSHO 

एक टेलर था। दर्जी था। यह बीमार पडा। करीब-करीब मरने के करीब पहुंच गया था। आखिरी घड़िया गिनता था। अब मर की तब मरा। रात उसने एक सपना देखा कि वह मर गया। और कब्र में दफनाया जा रहा है। बड़ा हैरान हुआ, क्रब में रंग-बिरंगी बहुत सी झंडियां लगी हुई है। उसने पास खड़े एक फ़रिश्ते से पूछा कि ये झंडियां यहाँ क्‍यों लगी है? दर्जी था, कपड़े में उत्‍सुकता भी स्‍वभाविक थी। उसे…

1200Px Pune Osho Teerth Park Preeti Parashar 11 Osho Meditation &Amp; Relationship
Sex Osho Thought

संभोग : परमात्‍मा की सृजन-ऊर्जा—(भाग–1) प्रेम क्‍या है? Osho 

मेरे प्रिय आत्‍मन, प्रेम क्‍या है? जीना और जानना तो आसान है, लेकिन कहना बहुत कठिन है। जैसे कोई मछली से पूछे कि सागर क्‍या है? तो मछली कह सकती है, यह है सागर, यह रहा चारों और , वही है। लेकिन कोई पूछे कि कहो क्‍या है, बताओ मत, तो बहुत कठिन हो जायेगा मछली को। आदमी के जीवन में जो भी श्रेष्‍ठ है, सुन्‍दर है, और सत्‍य है; उसे जिया जा सकता है,…

When The Dance Dances Itself Osho Meditation &Amp; Relationship
Lifestyle

सभी प्रेम चाहते हैँ फिर भी प्रेम का अकाल क्योँ है? OSHO Times | Emotional Ecology 

मैं आपको एक सूत्र की बात कहूं: जिस मनुष्य के पास प्रेम है उसकी प्रेम की मांग मिट जाती है। और यह भी मैं आपको कहूं: जिसकी प्रेम की मांग मिट जाती है वही केवल प्रेम को दे सकता है। जो खुद मांग रहा है वह दे नहीं सकता है। इस जगत में केवल वे लोग प्रेम दे सकते हैं जिन्हें आपके प्रेम की कोई अपेक्षा नहीं है—केवल वे ही लोग! महावीर और बुद्ध इस…

1/5
Motivation

बाशो स्पा BASHO SPA – OSHO RESORT 

एक आध्यात्मिक विश्राम-गृह, बीस्तरो (लघु क्लब सुविधा), टैनिस कोर्ट और तैरने के लिये ताल – क्यों नहीं! ओशो की दृष्टि में एक पूर्ण मानव वह है जो भौतिक और आध्यात्मिक, दोनों ही जगत में मज़े से है। इस बात का सबसे क्रन्तिकारी पहलु है “ज़ोरबा द बुद्धा”। ध्येय है एक ऐसा वातावरण निर्मित करना, जहां व्यक्ति पूर्ण हो सके―जहां उसमें धरती पर पांव जमाये हुए भी आकाश के सितारों को छू सकने की क्षमता हो।…